श्रीमद भगवद गीता के अनुसार योग सिद्धि के लक्षण क्या है | Shrimad Bhagwat Geeta ke Anusaar Yog Sidhi ke Lakshan

श्रीमद भगवत गीता के अनुसार भगवान श्री कृष्ण योग सिद्धि के लक्षणों के बारे में कहते हैं कि मनुष्य को योग की सिद्धि होने पर उसकी आत्मा शुद्ध हो जाती है उसका मन शुद्ध हो जाता है वह अपने आप को हल्का महसूस करता है।

अपनी आत्मा को वह जाने लेता है अर्थात उससे सत्य का व्यस्त विज्ञान हो जाता है और वह तृष्णा रहित हो जाता है। वह पूर्ण जीतेंद्र हो जाता है उसने सब कुछ पा लिया इसका उससे भान हो जाता है उसके जीवन में कुछ भी शेष नहीं होता वह संतोषमय प्राणी हो जाता है।

वह अपने स्वरुप को पहचाने लगता है ब्रह्म सत्य जगत मिथ्या है इससे परम सत्य को जानने लगता है। सभी भूतों में वह आत्म वत व्यवहार करता है उसके व्यवहार में शालीनता सभ्यता और प्रेम का भाव फूटने लगता है । वह सभी को एक भाव से देखता है, वह सभी को एक ही नजर से देखता है उसके लिए जात पात भेदभाव इन सभी विषयों के बारे में सोचना निरर्थक होता है ।

सभी प्राणियों के लिए वह कल्याणकारी कर्मों को करता है उसके लिए ना कोई अपना ना कोई पराया ऐसा कोई भाव नहीं है वह सबको समान समझता है और अपना ही परिवार समझता है ।

वह कर्म करते हुए उन कर्मों में लिप्त नहीं होता वह अपने आप को किसी भी चीज का आदि नहीं बनाता वह सांसारिक मोह माया को अपने ऊपर हावी नहीं होने देता सबको सीमित भाव से देखता है ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!